फ्लैगिंग से संबंधित तथ्य

किसी भी ब्लॉग मे अगर कुछ विवादास्पद दिखे तो उसे आप फ्लैग कर सकते हैं। लेकिन यह किसी भी तरह से सेंसर नही है। और एक उग्र भीड़ किसी ब्लॉग को लगातार फ्लैग कर कुछ नहीं बिगाड़ सकती। यद्यपि आप अपने ब्लॉग के ऊपर लगे नवीगेशन बार को इस तरीके से छुपा सकते हैं। परन्तु इसका प्रयोग टेम्पलेट की सुन्दरता बरकरार रखने के लिए है। अगर कोई कोशिश करे तो उस छुपे हुए नेविगशन बार को आसानी से देखा जा सकता है.

उसके लिए फायरफॉक्स में कई एक्सटेंशन हैं। जो आपको हर पेज के लिए अपना CSS प्रयोग मे लाने की अनुमति देते हैं। जिनके उपयोग से आप इस तरह की किसी भी चीज को देख सकते हैं। क्यूंकि ब्लोगेर अपनी तरफ़ से वो बार हर किसी क्लाइंट को भेजता ही है। (थोडी बहुत html/CSS की जानकारी वाले लोग 'वेब डेवलपर' नाम का एक्सटेंशन देख सकते हैं)


लेकिन इस पोस्ट का उद्देश्य सिर्फ़ ये बताना है किअपनी ऊर्जा किसी ब्लॉग को फ्लग करने मे लगना व्यर्थ है। क्यूंकि इससे आपका उद्देश्य पूरा नही होता। फ्लैगिंग समबन्धित औफिसिअल जानकारी के लिए यहां देखें।


शुरुआत मे ही लिखा है:
"The Flag button is not censorship and it cannot be manipulated by angry mobs."

4 comments:

इरफ़ान

March 2, 2008 at 12:44 AM

अच्छी जानकारी.

yunus

March 2, 2008 at 8:20 AM

बुद्धिमत्‍तापूर्ण पोस्‍ट । तुमसे यही उम्‍मीद की जाती है

अजित वडनेरकर

March 2, 2008 at 4:58 PM

बढ़िया जानकारी । शुक्रिया ।

suno swadhin logo........

August 25, 2008 at 1:53 AM

bahut achchha